मंगलवार, 31 जनवरी 2017

गज

गजल मोन होइए जे बियाह कS लि तै अहा स मोनक सलाह क लि ।। नुका नुका कतेक दिन मिलब चलु प्रेम आब बेपर्वाह क लि ।। पहिल प्रेम जे केलौ अहा स तै मोन होइए जे निर्वाह क लि ।। प्रेम सागर केर नाव अहा छि तै मोन होइए जे मलाह बनी ।। अहाक जोबन मादक्ता पिब क मोन होइए सते बताह बनी ।। सुख सागर यत्रा पैर प्रीतम मोन होइए धारा प्रवाह चली ।। प्रभात पुनम

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

b