बुधवार, 19 जनवरी 2011

किस से पूछूँ कौन बतायेगा क्या है मेरा पहचान !!!

फ़ैल रही है अराजकता स्वार्थलिप्सा की छाओं में !!
बह रही है खून की नदियाँ मधेश की हर गाँव में !!
फ़ैल रही है गुंडागर्दी और अपहरण हत्या की संजाल नेताओं की आड़ में !!
उसको तो सता की कुर्सी और बैंक बैलेंस चाहिए चाहे जनता जाये भाड़ में !!
लुट गयी जनताकी अमन चैन, छीन गयी आँखों की नींद !!
आमूल परिवर्तन की नाम में !!
सुनी होगई माँ की गोद ,धुल गयी माथे सिंदूर !!
अनाथ हो गए सैकड़ो बच्चे स्वतंत्र मधस की नाम में !!
फिर भी न मिल पाया एक जन्मसिद्ध नागरिक अधिकार !!
मधेस मुदों को कायर नेताओ ने बना डाला ,
अपने पैकेट भरनेका राजनीती ब्यापार !!
धिकार है तुम मधेसी नेताओं पर जो भूल गया उन वीर सहिदों की सपना !!
कायर और कांतर नेताओं भरले तुझे झोली जितना है भरना !!
जब जनता जाग जाएगी एक ऐसा तूफान आएगा !!
मिट जायेगा तेरा बहुरुपिया और नौटंकी वाले हस्ती !!
डूब जाएगी तेरा गन्दी राजनीती के कसती !!
फिर कायम होगा अमन चैन और समृद्ध समाजकी एक आदर्श वस्ती !!!!
रचनाकार :-प्रभात राय भट्ट
धिरापुर ,जनकपुर नेपाल

1 टिप्पणी:

  1. 4. prabhat ray bhatt | March 25, 2010 at 5:11 pm

    SARA MADHESH KARTA HAI GAJU BABU TUJHE SALAM,TUJHSE HI MILA MADHESHI JANTA KO EK NAYA ABAM. aj gaju babu humare bich nahi hai par unki bani aj bhi humare sath hai, kadam kadam pe hume margdarshan karate hai,unhone hume swatantra zindagi jine ki kala sikhalaye,madhesh ko ajadi dilane ki kasme uthaye,akela woh saks the jo sanshad bhawan me madhesi poshak dhoti aur kurta pahanke jate the,pahadi samudai ke log gidh ke najar se unhe dekhta tha, par woh kavi bhi kadam pichhe nai hataye , ek bir yodha ki bhati age aur sirf age badhte gaye.unka akela ajadi ki yatra tha aur woh akele hi sare pahadi samudai se ladte rahe, par hum madheshi janta jo unke sath nainshafi kiye hai woh aj hume gyat ho raha hai,jinho ne apne zindagi ko bhulake humare liye jite rahe, humne unkahi daman chhod diya,naganya rupse unhe madhesi janta ki sath mili. aj jab woh humare bich nahi hai to unki kami mahsush ho rahi hai.aj madheshi janata me jo urja hai yahi urja hum pahale dikhaye hote aur gaju babu ko sath diye hote to 18 sal pahale hi hume ajadi mil gayi hoti.khair ab bhi hum sare madhesi janta milke unke sapne sakar karen kyu ki woh humare adarsh hai.

    उत्तर देंहटाएं

b