बुधवार, 19 जनवरी 2011

किस्से पुछू कौन बताएगा क्या है मेरा पेहचान ,. . . . .

2 टिप्‍पणियां:

  1. किस्से पुछू कौन बताएगा क्या है मेरा पेहचान ,. . . . .

    माँ जानकीकी जन्मभूमि मिथिलाअंचल मधेस जो है तेरा मातृभूमि नेपाल देश, मेरी माँ ने दीथी मुझे ये उपदेश .. .

    दिलमे मची यैसी तरंग झूम उठा मेरा मन, चल पड़ा मै करने अपने देश नेपाल की रमण .

    कही किसी ने कहा मधेशी मुझे बहुत अच्छा लगा,

    खून मेरा तब खौल उठा जब पहाड़ियों ने कहा मुझे ...मधेशिया, मर्सिया, देसी बिहारी और धोती .

    मधेस की जमीन से मिलती है पहाड़ियों को दो छाक की रोटी .फिर भी करता है हमारा उफाश कहकर हमे धोती .

    पहाड़ी भाइयो ने उड़ाया मेरा मजाक कर दिया मेरा ऐसा अपमान .

    नहीं दिया मुझे मेरा एक नेपाली होनेका सम्मान .. . . . . . . . . . . . . . . . .

    किस्से पुछू कौन बताएगा क्या है मेरा पेहचान ..,

    हाँ! मै हु एक मधेसी नेपाली और मधेस ही है मेरा स्वाभिमान ,

    कबि बिध्यापति जी ने भी किये है मधेसका बखान .

    मधेस से ही अब्तारित हुए माँ जानकी और गौतमबुद्ध भगवान .. . . . . .

    गर्व है मुझे मधेसी होने पर और मधेस ही है हमारा स्वाभिमान और यही है मेरा पेहचान

    उत्तर देंहटाएं

b